The Grand Celebration!

https://msethi272blog.wordpress.com/2018/12/01/the-grand-celebration/ Click the link to read more at Reaching home to self. The beginning of the end for a new beginning.

Advertisements

दुआ क्या माँगें

हाथ उठाएं तो दुआ क्या माँगें? तकदीर से लड़कर भागें तो कहाँ भागें? जहाँ दरख्त भी शामिल हों साज़िश में वहाँ परिंदे आशियां आखिर कहाँ माँगें? इन अंधेरों से अब समेटने को कहो अपना वजूद जलते दियों की लो आखिर कब तलक जागे? हर आस बुनती रही खुद को आज तक जिनसे, थक कर चटकने [...]

Happy Deepawali!

इस दीवाली कुछ रोशन कर जाते हैं, चलो कुछ दीप मन के अंदर जलाते हैं, जो हाथ छूट गए कहीं राह में चलते हुए, जो अपने रूठ गए यूँ ही बात करते हुए , चलो आज चल कर उन्हें फिर मनाते हैं, जीवन में प्यार के कुछ लम्हे जलाते हैं, इस दीवाली कुछ रोशन कर [...]