मेरा कौन

मेरा कौन न मान मेरा न अपमान मेरा, न पीड़ा मेरी न स्नेह मेरा, न दर्द मेरा न चैन मेरा, न विरह मेरी न नेह-बंधन मेरा, न माया मेरी न देव मेरा, न सांस मेरी न शरीर मेरा, गहन उतरूँ तो कुछ नहीं मेरा, जब मैं ही नहीं, फिर कौन मेरा ? मेरा कौन ? [...]