धूप की दस्तक

Read my thoughts on YourQuote app धूप की दस्तक मेरे सफेदपोश जमे कोहरे पर पड़ी और उसकी घनी सफेद जालियों में सुराख़ कर मेरे अंतर्मन तक जा पहुंची कह नहीं सकती, कि निराशा कमज़ोर पड़ रही थी, या आशा इतनी प्रबल थी, कि धूप की दस्तक पहचान सांस लेने लगे थे, मेरे सभी उजाले जिन्हें [...]

Advertisements

पाकीज़ा

पाकीज़ा मतलब की इस दुनिया में, कुछ पाकीज़ा से रिश्ते थे । खोने से इन हीरों को, जाने हम कितना डरते थे । अब आज़ाद है मन पंछी की तरह, न रिश्ते बचे न डर ही रहा । आज ये मन पाकीज़ा है, तन छोड़ चुकी किसी रूह की तरह ।

शाम तुम्हारे साथ गुज़ारुँ

कब चाहा था मैंने कि मैं, शाम तुम्हारे साथ गुज़ारुँ ? मेरी बस एक चाह थी इतनी, कुछ पल बैठ मैं तुम्हें निहारूँ। तुम सूरज से तपिश तेज़ हो, मैं एक गुमनाम सितारा हूँ , तेज प्रचंड प्रकाश के समक्ष, कौन तारे के वर्चस्व को माने ? कब चाहा था मैंने कि मैं, तुम्हारे जीवन [...]