मैं और मेरे कातिल

मैं और मेरे कातिल


कतरा-कतरा रोज़ मरा करते हैं,
हम अपने कातिल साथ लिए चलते हैं ।

बड़े दिलदार हैं ये, गुनहगार खुद को करते हैं,
कहने को तो खुदा से, ये भी डरा करते हैं ।

यूँ तो हँसना हमारा था कसूर, इनकी नज़र,
अब कभी न मुस्कुराने का, इल्ज़ाम हम पर धरते हैं ।

बड़े काफिर हैं और बेरहम हैं ये कातिल या-खुदा,
तोड़कर, बिना दरारों के जुड़ जाने का हुक्म करते हैं ।

कैसे शिकवा करूँ, किससे करूँ ऐ-खुदाया मेरे ?
मुझसे ज़्यादा तेरी बंदगी में तो ये महबूब झुका करते हैं ।

अब ये आज़ाब खत्म हो, या बढ़े बर्दाश्त मेरी,
या कत्ल पूरी तरह हों, आखिर हम इतना तो हक रखते हैं!

क्यों भला कतरा-कतरा रोज़ मरा करते हैं ?
हम अपने कातिल जो साथ लिए चलते हैं ।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s