मंजिलों का सफर 

कई बार चलते कदम 

पहुँचे मंजिलों तक

मंजिल से आगे मिले मगर 

फिर कई रास्ते 

हर राह पहुँचाती है 

नई मंजिल पर

जहाँ पहुँच 

कदम फिर चुन लेते हैं 

एक नया सफर 

सिलसिले यूँ ही चलते हैं 

चलने के मगर

पीछे छूट जाता है कहीं 

मंजिलों का सफर 

क्यों चैन आता नहीं 

राही को कभी 

आखिर कौन सी मंजिल पर है 

उसके सपनों का घर 

या सब झूठ है

दिल की तसल्ली के लिए 

कदमों का काम बस चलते रहना है

और बदलना है मंजिलों की फितरत!


© 2017 Meenakshi Sethi, Wings Of Poetry 

52 thoughts on “मंजिलों का सफर 

  1. It’s more about the journey than about the destination. When we learn to enjoy the journey also, only then the milestones also succeed in making us happy.
    Lots of love and respect 💕

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s