राब्ता

हवा के झोंकों की तरह
किन शहरों से निकले
किन गलियों में टकराए
किस देश में खो गए?
अजनबी से लो फिर आज
हम अजनबी ही हो गए ।

जिंदा हूँ हैरान हूँ
इन आती जाती साँसों पर
मुझे लगा जान मेरी
तुम जाते जाते ले गए
न जाने जिंदा लाश हूँ या
कोई भरम तुम दे गए ?

बड़े घाटे का सौदा किया
इस इश्क के बाज़ार में
तुम बेगाने कभी लगे नहीं
पर हम खुद से गैर हो गए
अब चैन न करार है सवाल ही सवाल हैं
जाते जातेे उलझनें तुम ये कैसी दे गए?

खुद को तलाशने का भरम
ले आया खुदा की चौखट पर
सजदे में सर को झुकाया तो जाना
मेरे खुदा भी तुम थे हो गए
न तुम नज़र के सामने न वो नज़र आता कहीं
इस बेजान से शरीर की दोनों ही रूह हो गए ।

अब मौत से गिला नहीं
रूह से है वास्ता
अब एक हो या अलग
ये तेरा मेरा रास्ता
इस जहाँ में नहीं न सही
उस जहाँ में वाबस्ता हम हो गए ।

🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾
Hava ke jhonkon kee tarah

Kin shaharon se nikale

Kin galiyon mein takarae

Kis desh mein kho gae?

Ajanabee se lo phir aaj hum

Ajanabee hee ho gae

 
Jinda hoon hairaan hoon

In aatee jaatee saanson par

Mujhe laga jaan meree

Tum jaate jaate le gae

Na jaane jinda laash hoon

Ya koee bharam tum de gae ?

 
Bade ghaate ka sauda kiya

Iss ishk ke baazaar mein

Tum begaane kabhee lage nahin

Par ham khud se gair ho gae

Ab chain na karaar hai

Savaal hee savaal hain

Jaate jaatee ulajhanen tum ye kaisee de gae?

 
Khud ko talaashane ka bharam

Le aaya Khuda kee chaukhat par

Sajade mein sar ko jhukaaya to jaana

Mere khuda bhee tum the ho gae

Na tum nazar ke saamane na vo nazar aata kaheen

Iss bejaan se shareer kee donon hee rooh ho gae .

 
Ab maut se gila nahin

Rooh se hai vaasta

Ab ek ho ya alag

Tera mera raasta

Iss jahaan mein nahin na sahee

Us jahaan mein vaabasta ham ho gae


Copyright © 2017 Meenakshi Sethi, Wings Of Poetry

All Rights Reserved

Advertisements

23 thoughts on “राब्ता

  1. तुझसे बँधने की चाहत में
    खुदी से खो गये
    तुझे ढूँढते ढूँढते
    हम मनमौजी हो गये.

    Beautiful Meenakshi!!
    Loved it 🙂💕

    Liked by 2 people

  2. आध्यात्मिकता तलाश रही ये पंक्तियां … श्रंगार रस को समेटे …..हृदय में अंतरंगी आनंद को भरने का प्रयास करती प्रतीत होती हैं …

    Liked by 1 person

  3. As always… beautifully written!!! I really liked the following lines:

    बड़े घाटे का सौदा किया
    इस इश्क के बाज़ार में
    तुम बेगाने कभी लगे नहीं
    पर हम खुद से गैर हो गए

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s